मान लीजिए आपके पास घर सोना पड़ा होगा और आप इस सोने को बाजार में बेचने से और आपको पता चले कि जो सोना अपने खरीदा है वह तो नकली है या फिर मिलावटी है तो क्या होगा बहुत बड़ा धक्का लगता है परेशानियों को रोकने के लिए और काम करने के लिए सरकार ने हॉलमार्किंग अनिवार्य कर दिया कि सोना जो आप खरीदेंगे उसमें हॉलमार्किंग जरूर होनी चाहिए बिना उसके सोना ना तो दिखेगा नहीं आप खरीद पाएंगे Gold Hallmark Check

इस बात को जरूर देखें तो देखी जब भी आप सोना खरीदने जाएंगे अगर वहां पर 916 लिखा है इसका मतलब यह 22 कैरेट सोना है और 91.6%पूरे इसी तरीके से अगर वहां पर 750 लिखा होगा तो इसका मतलब यह 18 काह है और 75% शुद्ध सोना आप ले रहे हैं 585 लिखा है मतलब 14 कैरेट सोना और 58.5% शुद्ध सोना आप खरीद रहे तीसरी सबसे बड़ी बात है कि जब भी आप सुन खरीद रहे हैं हर कैटेगरी में विजिबल आईडेंटिफिकेशन मार्क होगा इसका मतलब यह है कि आपको यह पता चल जाएगा कि आप असली सोना खरीद रहा है

विजिबल आईडेंटिफिकेशन मार्क को इसलिए भी परखना है क्योंकि उसमें वह सोना कहां से हॉलमार्क है उसका जिक्र भी उसमें होता है उसे विजिबल आईडेंटिफिकेशन मार्क का मतलब यह भी है कि आपका ज्वेलर्स खरीद रहे हैं सोना और उसे ज्वैलर का नंबर कोड उसमें मिलेगा आपको असली हॉलमार्क पर तिकोना निशान होगा जो कि भारतीय मानक ब्यूरो का निशान होगा और यह सोने की शुद्धता के निशान के ठीक बगल में आपको दिखेगा और ज्वेलरी पर निर्माण का वक्त और उत्पादक का लोगो भी पर रखना चाहिए 

सोना खरीदना या तो वह इन्वेस्टमेंट के लिए हो या तो शादी विवाह के परपस के लिए या किसी और पर्पस के लिए लेकिन यह चीज हमारे जीवन में आता ही है और हम सोना खरीदने जाते ही हैं ज्वैलर के पास और ज्वेलर्स जो है वह हमें इस चीज का हमेशा भरोसा जताते हुए दिखता है कि यह सोना जो है वह हॉलमार्क है और इसलिए इसमें आराम से खरीद सकते हैं.

बहुत सारे लोग इस बात को बिना जाने के हॉलमार्क सोना होता क्या है वह इस चीज पर बिलीव कर लेना ही उत्तम समझते हैं दिमाग पर जोर डालने की बजाय हॉलमार्क है तो कुछ अच्छा ही होगा इसी मार्क की तरह तो इसी चीज के बारे में बताने की आज हम इस पोस्आट में कोशिश करेगे

सबसे पहले आप जान ले यह हॉलमार्क सोना होता क्या है इसे पहचानते कैसे हैं इसकी निशानी क्या है आपने देखा होगा यह पांच तरह के साइन होते हैं ( 5 Symbol ) पांच निशान बने होते हैं जनरली और इन्हीं निशाने से आप पहचान सकते हैं की ज्वेलरी की शुद्धता क्या है और ज्वेलरी कितना पूरे है पहले जो निशान होता है यह जो निशान है यानी ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड मार्क यह बतलाता है कि यह ज्वेलरी का जो आइटम है वह अपने किसी लैब में टेस्ट करके सर्टिफाई किया है

यह स्टैंडर्ड एक गवर्नमेंट आफ इंडिया की संस्था है जो किसी भी ज्वेलरी आइटम को सर्टिफाई करती है एक बहुत ही नॉमिनल अमाउंट पर अभी हाल में इनका रेट ₹35 प्रति ज्वेलरी आइटम है यह किसी एक ज्वेलरी आइटम के लिए शुद्धता की गारंटी देने के लिए शुद्धता का मार्ग लगाने के लिए ₹35 ज्वेलर्स मैन्युफैक्चरर को देने होते हैं.

तो इंडियन स्टैंडर्ड है संस्था और इसके लैब्स इंडिया में बहुत जगह पर खुले हुए हैं यहां पर आप देख सकते हैं लगभग 200 से ज्यादा जगह पर उनके लैबोरेट्रीज है छोटे से लेकर बड़े शहरों पर मैन्युफैक्चरर आफ ज्वैलरी अपने सोने का हॉलमार्क करवा सकता है जाते हैं की ज्वेलरी कितनी प्योर है.

यानी यह 22 कैरेट का है 24 कैरेट का है कितने का है अगर यह 999 है तो यह 24 कैरेट का गोल्ड है प्योर गोल्ड है अगर यह 958 है तो यह 23 कैरेट का 916 है तो 22K कैरेट सोने का है यानी इस टेबल से आप देख सकते हैं इस नंबर का आप मिलान कर सकते हैं कि कितने नंबर पर कितना कैरेट गोल्ड की शुद्धता है अलग-अलग नंबर के लिए अलग-अलग कैरेट निर्धारित चलते हैं अपने अगले साइन की तरफ अगला जो साइन है यानी यूरोप इंडियन स्टैंडर्ड के द्वारा जो ऑथराइज्ड हॉल मार्किंग सेंटर है उनका साइन है और यह बताता है के यह स्टैंडर्ड के किस केंद्र पर जाकर ज्वेलरी का आइटम हॉलमार्क हुआ है

गोल्ड के रेट पर नकली सोना बेच दिया जाता है आपके साथ ऐसा ना हो इसलिए सोने की शुद्धता के बारे में जानना जरूरी है हम आपको कुछ आसान तरीके बताते हैं जिसके जरिए आप घर पर ही सोने की शुद्धता जान सकते हैंआवाज में चमक आ जाती हैजो सदियों से सुंदरता में चार चांद लगाता रहा हैसोना जो धरती पर मौजूद सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाली धातु रहा है

सोना जिसकी जेवरात हर महिला की पहली पसंद रहे सोना जो शादी ब्याह से लेकर बर्थडे और वेडिंग एनिवर्सरी तक गिफ्ट किया जाता है हिंदुस्तान के करीब हर घर में सोना मिल जाएगाआपके घर पर भी सोने के जूबर्ट होंगे लेकिन क्या आप जानते हैं कि सोने की परख कैसे की जाति क्या आप जानते क्या असली और नकली सोने की पहचान कैसे की जाती है गहनों पर बना हॉलमार्क उसकी शुद्धता का स्तर बताता है लेकिन अगर आप सोने पर कोई मार्क नहीं है तो फिर उसके शुद्धता पहचान कैसे की जाएहम आपको बताते कि घर पर सोने की शुद्धता की जांच कैसे करें 

सोने को सिरके में कुछ देर के लिए छोड़ दिया इसके बाद से पानी से धो ले यदि सोना शुद्ध होगा तो इसके रंग में कोई बदलाव नहीं दिखेगा अगर सोना नकली होगा तो उसका रंग कला हो जायेगा.

अब आते हैं अगले साइन की तरफ वहां पर एक लेटर आपको लिखा हुआ मिलता है ए बी सी डी पी जो भी लेटर है तो हर एक लेटर एक ईयर ऑफ मार्किंग बताता है यानी कि साल में यह सर्टिफाइड हुआ है यह सोने का आइटम इसको बेस ईयर 2000 माना गया है ज्वेलरी सर्टिफाई हुई है तो उसे ए से दिनो किया जाता है इसी तरह से 2001 में अगर कोई जूलरी सर्टिफाई हुई है तो
2001 में अगर कोई जूलरी सर्टिफाई हुई है तो उसे भी से दिनो किया जाता है और सिमिलरली इसी तरह से चलते-चलते अगर वह B में सर्टिफाई हुई होगी इस तरह से इन्होंने सिस्टम रखा है पता नहीं 2026 के बाद यह क्या करने वाले लेकिन यह इनका मार्किंग स्कीम है

और जो लास्ट वाला सिंबल है वह यह बतलाता है यह मैन्युफैक्चर का सिंबल है यानी यह जो ज्वेलर्स है उसका आईडेंटिफिकेशन मार्क है या नहीं यह उसे पार्टिकुलर ज्वेलरी का तो दोस्तों यह हॉल मार्किंग की कहानी है अगर आपको इस तरह से सिग्नल मिले सॉरी सिंबल मिले अगर आपको इस तरह से सिंबल मिलते हैं इस तरह से समय किसी भी चीज को जाने बिना दुकान में हां मिलाकर स्मार्ट बनने की कोशिश करना मूर्खता है सत्य को जान ले